2 Line Shayari

2 Line Shayari

मौत आई तो क्या मैं मर जाऊँगा? मैं तो इक दरिया हूँ, जो समंदर में मिल जाऊँगा.

कहाँ ढूँढ़ते हो तुम इश्क़ को ऐ-बेखबर ये खुद ही ढून्ढ लेता है जिसे बर्बाद करना हो ..

“वो खुदगर्ज हो गए तो मै क्या करू मुझे उनकी वफा भुलाई नही जाती”

हर एक बात पे कहते हो तुम की तू क्या है, तुम्ही कहो की ये अंदाज-ए-गुफ्तगुं क्या है!

नज़रों से दूर सही दिल के बहुत पास है तू.. बिखरी हुई इस ज़िन्दगी में मेरे जीने की आस है तू..

वो मेरी हर दुआ में शामिल था, जो किसी और को बिन मांगे मिल गया

तुम थोड़ी सी ‪फुलझड़ी‬ क्या हुई.. पूरा मौहल्ला ही ‪माचिस‬ हो गया..

मोहब्बत भी ठंड जैसी है, लग जाये तो बीमार कर देती है..

2 Line Shayari (2022) Hindi, English

2 Line Shayari (2022) Hindi, English

Arrow