गिला शिकवा शायरी, Gila Shikwa Shayari In Hindi, Shikwa Quotes Collection August 15, 2021 by admin

गिला शिकवा शायरी, Gila Shikwa Shayari In Hindi, Shikwa Quotes Collection, Narazgi Shayari, Gila Shikwa Shayari in hindi Image, Gila Shikwa Shayari in Urdu, Gila Shikwa Shayari image, Na Gila Na Shikwa Shayari.

नमस्कार दोस्तों में आप सभी का स्वागत करता हु Maashayari.in और दोस्तों गिला शिकवा शायरी दोस्तों इस आर्टिकल में आप सब के लिए बहुत ही बढ़िया 100 गिला शिकवा शायरी हिंदी में लिखी हुई 2021 और मोहब्बत गिला शिकवा शायरी फॉर व्हाट्सएप्प लेकर आया हूँ सबसे बेस्ट सदाबहार नाराजगी शायरी हिंदी 2 लाइन पढ़ने के लिए इस आर्टिकल पर आखरी तक बने रहिये।

दोस्तो में आप के लिए बहुत ही बड़ी नवीनतम शायरी लेकर आया हूं दोस्तों आप सब को Mashayari में 2021 की नई शायरी पढ़ने को मिल जाएगी या दोस्तों आप को वेबसाइट है हिंदी सभी शायरी पढ़ने को मिल जाएगी दोस्तों वेबसाइट मैं सभी All शायरी को खोज कर सकते हैं मेरी वेबसाइट पर आने के लिए धन्यवाद।

हमे बिलकुल अप के लिए कुछ खास करना चाहिए इसलिए हम आपके लिए लेकर आए है वादा शायरी जिसे आप ग्रीटिंग कार्ड, व्हाट्सएप्प या फिर सोशल मीडिया पर लिख दे सकते है| यह बहुत ही शानदार और दिल को छू लेने वाली शायरी है.

गिला शिकवा शायरी

दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे!
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे!
वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का!
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!

—————————-

मोहब्बत नहीं है कोई किताबों की बाते!
समझोगे जब रो कर कुछ काटोगे रातें!
जो चोरी हो गया तो पता चला दिल था हमारा!
करते थे हम भी कभी किताबों की बाते!

—————————-

इस कदर हम यार को मनाने निकले!
उसकी चाहत के हम दिवाने निकले!
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा!
उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले!

—————————-

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है!
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है!
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद!
फिर भी हर मोड़ पर उसी का इन्तज़ार क्यों है!

—————————-

इंतज़ार करते करते वक़्त क्यों गुजरता नहीं!
सब हैं यहाँ मगर कोई अपना नहीं!
दूर नहीं पर फिर भी वो पास नहीं!
है दिल में कहीं पर आँखों से दूर कहीं!

—————————-

Also Read:-Wada Shayari In Hindi, Promise Status Hindi, Urdu, Waada Shayari Rekhta 

हर शाम कह जाती है एक कहानी !
हर सुबह ले आती है एक नई कहानी !
रास्ते तो बदलते है हर दिन लेकिन !
मंजिल रह जाती है वही पुरानी !

—————————-

तरसते थे जो मिलने को हमसे कभी!
आज वो क्यों मेरे साए से कतराते हैं!
हम भी वही हैं दिल भी वही है!
न जाने क्यों लोग बदल जाते हैं!

—————————-

अपनी तकदीर में तो कुछ ऐसे ही सिलसिले लिखे हैं;
किसी ने वक़्त गुजारने के लिए अपना बनाया;
तो किसी ने अपना बनाकर ‘वक़्त’ गुजार लिया!

—————————-

तकदीर बनाने वाले, तूने भी हद कर दी;
तकदीर में किसी और का नाम लिखा था;
और दिल में चाहत किसी और की भर दी!

—————————-

भूल गए या, भुलाना चाहते हो?
दूर कर दिया, या जाना चाहते हो?
आजमा लिया, या आजमाना चाहते हो?
मैसेज कर रहे हो या अभी और पैसे बचाना चाहते हो?

gila shikwa shayari in hindi

Gila Shikwa Shayari In Hindi

इन आंखो मे आंसू आये न होते;
अगर वो पीछे मुडकर मुस्कुराये न होते!
उनके जाने के बाद बस येही गम रहेगा;
कि काश वो हमारी ज़िन्दगी मे दूबारा आये न होते!

—————————-

फलक से चाँद उतारा गया;
मेरी आस का एक सहारा गया!
मैं दो बूँद पानी तरसती रही;
मेरे होंठों से ज़हर गुज़ारा गया!

—————————-

हमें उनसे कोई शिकायत नहीं;
शायद हमारी किस्मत में चाहत नहीं!
मेरी तकदीर को लिखकर तो ऊपर वाला भी मुकर गया;
पूछा तो कहा, “ये मेरी लिखावट नहीं”!

—————————-

एक सिलसिले की उम्मीद थी जिनसे;
वही फ़ासले बनाते गये!
हम तो पास आने की कोशिश में थे;
ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये!

—————————-

Also, Read This Shayari:- Intezaar Shayari, Intezar Shayari, Intezaar Shayari In Hindi Status 2021

खुदा जाने, प्यार का दस्तूर क्या होता है;
जिन्हें अपना बनाया, वो न जाने क्यों दूर होता है;
कहते हैं कि मिलते नहीं ज़मीन आसमान;
फिर न जाने क्यूँ, आसमान ज़मीन का सरूर होता है!

—————————-

शिकायत है उन्हें कि हमें मोहब्बत करना नही आता;
शिकवा तो इस दिल को भी है;
पर इसे शिकायत करना नहीं आता।

—————————-

दीवाने तेरे हैं, इस बात से इनकार नहीं;
कैसे कहें कि हमें आपसे प्यार नहीं;
कुछ तो कसूर है आपकी निगाहों का;
हम अकेले तो गुनेहगार नहीं।

—————————-

नज़र चाहती है दीदार करना;
दिल चाहता है प्यार करना;
क्या बतायें इस दिल का आलम;
नसीब में लिखा है इंतजार करना!

—————————-

उल्फत में अक्सर ऐसा होता है;
आँखे हंसती हैं और दिल रोता है;
मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी;
हमसफर उनका कोई और होता है!

—————————-

मुझे सता के वो मेरी दुआएं लेता है;
उसे खबर है कि मुझे बद्दुआ नहीं आती;
सब कुछ सौप दिया उसे हमने;
फिर भी वो कहता है, हमें वफा नहीं आती!

gila shikwa shayari in hindi 2 lines

Gila Shikwa Shayari 2 Lines

हमने सोचा कि सिर्फ हम ही उन्हें चाहते हैं;
मगर उनके चाहने वालों का तो काफ़िला निकला;
मैंने सोचा कि शिकायत करू खुदा से;
मगर वह भी उनके चाहने वालों में निकला!

—————————-

वादा करके वो निभाना भूल जाते हैं;
लगा कर आग फिर वो बुझाना भूल जाते हैं;
ऐसी आदत हो गयी है अब तो उस हरजाई की;
रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं।

—————————-

सब फ़साने हैं दुनियादारी के,
किस से किस का सुकून लूटा है;
सच तो ये है कि इस ज़माने में,
मैं भी झूठा हूँ तू भी झूठा है।

—————————-

ज़िंदा रहे तो क्या है, जो मर जायें हम तो क्या;
दुनिया से ख़ामोशी से गुज़र जायें हम तो क्या;
हस्ती ही अपनी क्या है ज़माने के सामने;
एक ख्वाब हैं जहान में बिखर जायें हम तो क्या।

—————————-

Also, Read This Shayari:-Maa Par Shayari In Hindi, Maa Ki Mamta Shayari, Mom Shayari 2 Lines

किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह;
वो आशना भी मिला हमसे अजनबी की तरह;
किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी;
छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह।

—————————-

वादा करके निभाना भूल जाते हैं;
लगा कर आग फिर वो बुझाना भूल जाते हैं;
ऐसी आदत हो गयी है अब तो सनम की;
रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं।

—————————-

कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था;
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था;
सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है;
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।

—————————-

वक़्त बदलता है ज़िन्दगी के साथ;
ज़िन्दगी बदलती है वक़्त के साथ;
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ;
बस अपने बदल जाते हैं वक़्त के साथ

—————————-

कदम कदम पे बहारों ने साथ छोड़ दिया;
पड़ा जब वक़्त तब अपनों ने साथ छोड़ दिया;
खायी थी कसम इन सितारों ने साथ देने की;
सुबह होते देखा तो इन सितारों ने साथ छोड़ दिया।

—————————-

मानते हैं सारा जहाँ तेरे साथ होगा;
खुशी का हर लम्हा तेरे पास होगा;
जिस दिन टूट जाएँगी साँसे हमारी;
उस दिन तुझे हमारी कमी का एहसास होगा।

gila shikwa shayari in hindi 2021

Gila Shikwa Shayari Image

ज़ख़्म देने की आदत नहीं हमको;
हम तो आज भी वो एहसास रखते हैं;
बदले बदले से तो आप हैं जनाब;
जो हमारे अलावा सबको याद रखते हैं।

—————————-

रास्ते में पत्थरों की कमी नहीं है;
मन में टूटे सपनो की कमी नहीं है;
चाहत है उनको अपना बनाने की मगर;
मगर उनके पास अपनों की कमी नहीं है।

—————————-

वो भूल गए कि उन्हें हसाया किसने था;
जब वो रूठे थे तो मनाया किसने था;
वो कहते हैं वो बहुत अच्छे है शायद;
वो भूल गए कि उन्हें यह बताया किसने था।

—————————-

कहाँ से लाऊँ हुनर उसे मनाने का;
कोई जवाब नहीं था उसके रूठ जाने का;
मोहब्बत में सजा मुझे ही मिलनी थी;
क्योंकि जुर्म मेरा था उनसे दिल लगाने का।

—————————-

उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद;
अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद;
क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया;
यहाँ लोग भूल जाते ही किसी को दफनाने के बाद।

—————————-

Also, Read This Shayari:- Two Line Shayari In Hindi, Short Shayari On Life, 2 Line Love Shayari

मोहब्बत का मेरा यह सफर आख़िरी है;
ये कागज, ये कलम, ये गजल आख़िरी है;
फिर ना मिलेंगे अब तुमसे हम कभी;
क्योंकि तेरे दर्द का अब ये सितम आख़िरी है।

—————————-

ना जाने कौन सी बात पर वो रूठ गयी है;
मेरी सहने की हदें भी अब टूट गयी हैं;
कहती थी जो कि कभी नहीं रूठेगी मुझसे;
आज वो अपनी ही बातें भूल गयी है।

—————————-

मुद्दत से कोई शख्स रुलाने नहीं आया;
जलती हुई आँखों को बुझाने नहीं आया;
जो कहता था कि रहेंगे उम्र भर साथ तेरे;
अब रूठे हैं तो कोई मनाने नहीं आया।

—————————-

तुम ने चाहा ही नहीं हालात बदल सकते थे;
तेरे आाँसू मेरी आँखों से निकल सकते थे;
तुम तो ठहरे रहे झील के पानी की तरह;
दरिया बनते तो बहुत दूर निकल सकते थे।

—————————-

दस्तूर-ए-उल्फ़त वो निभाते नहीं हैं;
जनाब महफ़िल में आते ही नहीं हैं;
हम सजाते हैं महफ़िल हर शाम;
एक वो हैं जो कभी तशरीफ़ लाते ही नहीं हैं!

गिला शिकवा शायरी

शिकवा नहीं किसी से शायरी

आग से सीख लिया हम ने यह करीना भी;
बुझ भी जाना पर बड़ी देर तक सुलगते रहना;
जाने किस उम्र में जाएगी यह आदत अपनी;
रूठना उससे और औरों से उलझते रहना।

—————————-

समझा न कोई हमारे दिल की बात को;
दर्द दुनिया ने बिना सोचे ही दे दिया;
जो सह गए हर दर्द को हम चुपके से;
तो हमको ही पत्थर दिल कह दिया।

—————————-

दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया;
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया;
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने;
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया।

—————————-

ज़िंदगी से चले हैं अब इल्ज़ाम लेकर;
बहुत जी चुके हैं अब उनका नाम लेकर;
अकेले बातें करेंगे अब वो इन सितारों से;
अब चले जायेंगे उन्हें यह सारा आसमान देकर।

—————————-

जब प्यार नहीं है तो भुला क्यों नहीं देते;
ख़त किसलिए रखे हैं जला क्यों नहीं देते;
किस वास्ते लिखा है हथेली पे मेरा नाम;
मैं हर्फ़ ग़लत हूँ तो मिटा क्यों नहीं देते।

—————————-

भुला के मुझको अगर तुम भी हो सलामत;
तो भुला के तुझको संभलना मुझे भी आता है;
नहीं है मेरी फितरत में ये आदत वरना;
तेरी तरह बदलना मुझे भी आता है।

—————————-

ज़िंदगी हमारी यूँ सितम हो गयी;
ख़ुशी ना जाने कहाँ दफ़न हो गयी;
बहुत लिखी खुदा ने लोगों की मोहब्बत;
जब आयी हमारी बारी तो स्याही ही ख़त्म हो गयी।

—————————-

मोहब्बत मुक़द्दर है एक ख्वाब नहीं;
ये वो अदा है जिसमे सब कामयाब नहीं;
जिन्हें पनाह मिली उन्हें उँगलियों पर गिन लो;
मगर जो फना हुए उनका कोई हिसाब नहीं।

One thought on “गिला शिकवा शायरी, Gila Shikwa Shayari In Hindi, Shikwa Quotes Collection”

Leave a Reply